Meeting Register Page

Meeting banner
सचेतन :25. श्री शिव पुराण- शिकारी की कथा- शिवरात्रि का माहात्म्य
सचेतन :25. श्री शिव पुराण- शिकारी की कथा- शिवरात्रि का माहात्म्य
Sachetan:The Story of the Hunter - The Greatness of Shivratri
विद्येश्वर संहिता
एक बार पार्वती जी ने भगवान शिवशंकर से पूछा, 'ऐसा कौन-सा श्रेष्ठ तथा सरल व्रत-पूजन है, जिससे मृत्युलोक के प्राणी आपकी कृपा सहज ही प्राप्त कर लेते हैं?' उत्तर में शिवजी ने पार्वती को 'शिवरात्रि' के व्रत का विधान बताकर यह कथा सुनाई- 'एक बार चित्रभानु नामक एक शिकारी था। पशुओं की हत्या करके वह अपने कुटुम्ब को पालता था। वह एक साहूकार का ऋणी था, लेकिन उसका ऋण समय पर न चुका सका। क्रोधित साहूकार ने शिकारी को शिव मठ में बंदी बना लिया। संयोग से उस दिन शिवरात्रि थी।'
शिकारी ध्यानमग्न होकर शिव-संबंधी धार्मिक बातें सुनता रहा। चतुर्दशी को उसने शिवरात्रि व्रत की कथा भी सुनी। संध्या होते ही साहूकार ने उसे अपने पास बुलाया और ऋण चुकाने के विषय में बात की। शिकारी अगले दिन सारा ऋण लौटा देने का वचन देकर बंधन से छूट गया। अपनी दिनचर्या की भांति वह जंगल में शिकार के लिए निकला। लेकिन दिनभर बंदी गृह में रहने के कारण भूख-प्यास से व्याकुल था। शिकार करने के लिए वह एक तालाब के किनारे बेल-वृक्ष पर पड़ाव बनाने लगा। बेल वृक्ष के नीचे शिवलिंग था जो विल्वपत्रों से ढका हुआ था। शिकारी को उसका पता न चला।
पड़ाव बनाते समय उसने जो टहनियाँ तोड़ीं, वे संयोग से शिवलिंग पर गिरीं। इस प्रकार दिनभर भूखे-प्यासे शिकारी का व्रत भी हो गया और शिवलिंग पर बेलपत्र भी चढ़ गए। एक पहर रात्रि बीत जाने पर एक गर्भिणी मृगी तालाब पर पानी पीने पहुँची। शिकारी ने धनुष पर तीर चढ़ाकर ज्यों ही प्रत्यंचा खींची, मृगी बोली, 'मैं गर्भिणी हूँ। शीघ्र ही प्रसव करूँगी। तुम एक साथ दो जीवों की हत्या करोगे, जो ठीक नहीं है। मैं बच्चे को जन्म देकर शीघ्र ही तुम्हारे समक्ष प्रस्तुत हो जाऊँगी, तब मार लेना।' शिकारी ने प्रत्यंचा ढीली कर दी और मृगी जंगली झाड़ियों में लुप्त हो गई।
कुछ ही देर बाद एक और मृगी उधर से निकली। शिकारी की प्रसन्नता का ठिकाना न रहा। समीप आने पर उसने धनुष पर बाण चढ़ाया। तब उसे देख मृगी ने विनम्रतापूर्वक निवेदन किया, 'हे पारधी! मैं थोड़ी देर पहले ऋतु से निवृत्त हुई हूं। कामातुर (जो काम-वासना के कारण बहुत आतुर या विकल हो रहा हो) विरहिणी हूँ। अपने प्रिय की खोज में भटक रही हूँ। मैं अपने पति स
Nov 30, 2022 10:00 AM
Dec 1, 2022 10:00 AM
Dec 2, 2022 10:00 AM
Dec 3, 2022 10:00 AM
Dec 4, 2022 10:00 AM
Dec 5, 2022 10:00 AM
Dec 6, 2022 10:00 AM
Dec 7, 2022 10:00 AM
Dec 8, 2022 10:00 AM
Dec 9, 2022 10:00 AM
Dec 10, 2022 10:00 AM
Dec 11, 2022 10:00 AM
Dec 12, 2022 10:00 AM
Dec 13, 2022 10:00 AM
Dec 14, 2022 10:00 AM
Dec 15, 2022 10:00 AM
Dec 16, 2022 10:00 AM
Dec 17, 2022 10:00 AM
Dec 18, 2022 10:00 AM
Dec 19, 2022 10:00 AM
Dec 20, 2022 10:00 AM
Dec 21, 2022 10:00 AM
Dec 22, 2022 10:00 AM
Dec 23, 2022 10:00 AM
Dec 24, 2022 10:00 AM
Dec 25, 2022 10:00 AM
Dec 26, 2022 10:00 AM
Dec 27, 2022 10:00 AM
Dec 28, 2022 10:00 AM
Dec 29, 2022 10:00 AM
Dec 30, 2022 10:00 AM
Dec 31, 2022 10:00 AM
Time shows in
Meeting logo
Loading
* Required information